छत्तीसगढ़

लॉक डाउन का दिखने लगा असर कही बढ़ी महगाई तो कहीं ज्यादा दामों में बिक रहा सामान

गुड़ाखु और गुटखा का रेट बढ़ा, खाद्य विभाग ने अब तक नहीं की कोई कार्यवाही

– जमाखोरों द्वारा मनमर्जी से बेचा जा रहा है गुड़ाखू और गुटखा

नवापारा-राजिम. रायपुर में लॉकडाउन लगा और मंहगाई नवापारा अंचल में बढऩे लगी है। इसमें सबसे अधिक मंहगाई गुड़ाखू और गुटखा की बढ़ी है। मंहगाई बढ़ते ही लोग गुड़ाखू और गुटखा लेने दौड़ पड़े, लेकिन जैसे ही दुकान पहुंचे दाम आसमान छू रहे थे। रायपुर में लॉकडाउन की घोषणा से इनके दामों में तीन गुना इजाफा होने से इसे बेचने वाले दुकानदारों को रातों रात फिर मालामाल होने का मौका मिल गया।

प्रशासन द्वारा इस पर लगाम नहीं लगाई गई तो पूर्व की भांति 7 रुपए का गुड़ाखू डिब्बा पुन: 100 रुपए में बिकने लगेगा। वहीं थोक में २०० रुपए में मिलने वाला एक पैकेट गुड़ाखु इन दिनों 350 रुपए में धड़ल्ले से बेचा जा रहा है। व्यापारी ज्यादा मुनाफा कमाने के चक्कर में आम जनता के जेब में डाका डाल रहे हैं। इस संबंध में लोगों ने चर्चा में बताया कि यदि समय रहते इन व्यापारियों पर लगाम नहीं कसा गया तो मई माह में जो स्थिति हुई थी वह एक बार फिर 7 रुपए के गुड़ाखू की डिबिया 100 रुपए तक बेची जा सकती है।

बता दें कि जिला प्रशासन ने रायपुर में लॉकडाउन फिर जारी करने के आदेश दिए हैं। लॉकडाउन की घोषणा होते ही नगर में एक बार फिर गुड़ाखू की कालाबाजारी जमकर होने लगी है। जिन व्यापारियों के पास गुड़ाखू का स्टॉक है वे 7 रुपए में मिलने वाले गुड़ाखू को 15 से 25 रुपए में बेच रहे हैं। प्रशासन द्वारा समय रहते कालाबाजारी करने वाले व्यापारियों के खिलाफ कोई ठोस कार्यवाही नहीं की तो आने वाले दिनों में मई माह की स्थिति निर्मित हो जाएगी। ज्ञात हो कि ग्रामीण इलाकों में गुड़ाखू को मंजन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

-=================================================================

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button