गुप्तचर विशेषबिग ब्रेकिंगभारत

मरे हुए को जिन्दा करने 20 दिनों तक चलती रही पूजा, मां के शव के साथ उम्मीद में बैठें रहे बच्चे

हम सभी जानते है कि मरने के बाद कोई वापस नहीं आता हैं। लेकिन कई बार लोग अंधविश्वास में आ कर धोखाधड़ी का शिकार हो जाते हैं। तमिलनाडु के डिंडीगुल से ऐसी ही मार्मिक और दर्दनाक हैरान करने वाली घटना सामने आई है। जहाँ एक पुजारी महिला की मौत के बाद 20 दिन तक उसके बच्चों से आत्मा वापसी की पूजा करता रहा, इसके साथ ही पुजारी उन बच्चों को लगातार दिलासा देता रहा कि भगवान उसकी पूजा के बाद जरूर उनकी माँ को जिन्दा कर देंगें।

theguptchar
theguptchar

दरसल यह पूरी घटना कुछ ऐसी बताई जा रही हैं कि इंदिरा नाम की एक औरत डिंडीगुल के एक महिला पुलिस थाने में हेड कांस्टेबल के रूप में काम करती थी। महिला को गुर्दों से संबंधित तकलीफ रहती थी। कुछ साल पहले ही इंदिरा अपने बच्चों को लेकर अलग हो गई थी. इंदिरा के 13 साल का लड़का और एक 9 साल बच्ची है। दोनों बच्चों को इंदिरा अकेले ही पाल रही थी।

घर के अंदर से तेज बदबू आ रही थी

मिली जानकारिओं अनुसार, गुर्दे की तकलीफ के कारण इंदिरा ने कुछ समय पहले स्वैच्छिक रिटायरमेंट के लिए पुलिस विभाग में अनुरोध भी किया था। कुछ दिनों से इंदिरा पुलिस स्टेशन नहीं आ रही थी। जिसके बाद एक महिला कांस्टेबल इंदिरा के घर जानकारी लेने के लिए पहुंची। घर के अंदर उसे दोनों बच्चे मिले। घर के अंदर से तेज बदबू आ रही थी।

महिला कांस्टेबल ने बच्चों से इंदिरा के बारे में पूछा तो बच्चों ने बताया कि मां सो रही है और उसे उठाना नहीं है, नहीं तो भगवान उसे नुकसान पहुंचा देंगे। जब महिला कांस्टेबल को कुछ शक हुआ तो उसने अधिकारियों को इस मामले में सूचित किया। जब पुलिस आई तो उसे जांच में पता चला कि इंदिरा की मौत हो चुकी है।

पिछले 20 दिन पहले ही इंदिरा ने दम तोड़ दिया था। इंदिरा के आसपास पूजा आदि की सामग्री पड़ी हुई थी. पुलिस ने जांच की तो पता चला इंदिरा ने 7 दिसंबर के दिन ही होश खो दिया था. लेकिन पुजारी सुदर्शन की सलाह पर उसे अस्पताल नहीं ले जाया गया। पुजारी ने बच्चों और इंदिरा की बहन से कहा कि वे इंदिरा को अस्पताल न ले जाएं अन्यथा भगवान इंदिरा की रक्षा नहीं करेंगे।

सुदर्शन भी तब से लेकर अब तक परिवार के साथ ही घर में रुका रहा। घर को बाहर से बंद करने के बाद 20 दिनों तक इंदिरा की आत्मा वापस लाने के लिए पूजा की जाती रही। पुलिस खुद को तब और अधिक असहाय महसूस करने लगी जब इंदिरा के बच्चे पुलिस से कहने लगे कि कोई उनकी मां को परेशान न करे, वो केवल सो रही है। फ़िलहाल पुलिस ने पुजारी सुदर्शन और इंदिरा की बहन को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है। पुलिस इस मामले के बाकी एंगल्स पर जांच कर रही है।

यह भी पढ़ें किसानों ने ली शपथ, काले कानूनों की वापसी तक जारी रहेगा संघर्ष : छत्तीसगढ़ किसान सभा

यह भी पढ़ें छत्तीसगढ़ : कल 2 जनवरी को 7 जिलों में होगा कोविड-19 वैक्सीनेशन का मॉक ड्रिल

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button