गुप्तचर विशेषबिग ब्रेकिंगभारतसियासत

पूर्व CJI गोगोई ने तोड़ी चुप्पी … क्या अयोध्या और राफेल फैसले के बदले मिली राज्यसभा सीट?

नई दिल्ली: लंबे समय के बाद पूर्व सीजेआई ने अपने ऊपर लग रहे आरोपों पर चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने अयोध्या में राम जन्मभूमि, राफेल और सबरीमला जैसे फैसलों पर खुलकर बात की. इसके साथ ही उन्होंने फैसलों के बदले राज्यसभा सीट मिलने के सवाल का जवाब भी दिया.

पूर्व चीफ जस्टिस और राज्यसभा सदस्य रंजन गोगोई ने उन आरोपों को निराधार बताया जिनमें कहा जा रहा था कि उन्हें रामजन्मभूमि समेत कई अन्य फैसलों के बदले बीजेपी राज्यसभा सीट मिली है. अंग्रेजी चैनल इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में गोगई ने राम मंदिर, राफेल समेत अपने चीफ जस्टिस के कार्यकाल के दौरान दिए गए तमाम फैसलों पर खुलकर बात की.

गोगई ने कहा कि मैंने सोचा था कि राज्यसभा जाकर कुछ संरचनात्मक कार्य करूंगा. रिटायरमेंट के एक साल के भीतर मोदी सरकार की ओर से राज्यसभा भेजे जाने पर गोगोई ने कहा कि मुझे इस बात की परवाह नहीं है कि मुझे किस पार्टी ने भेजा है. मेरे पास कोई निर्वाचन क्षेत्र नहीं है, पूरा देश मेरे लिए निर्वाचन क्षेत्र है.

RANJAN Gogoi
RANJAN Gogoi

राम जन्मभूमि फैसले पर गोगई ने कहा कि लोग राम जन्मभूमि फैसले को मोदी सरकार की सबसे बड़ी सफलता के तौर पर देखते हैं. यह लोग एक न्यायिक आदेश और एक राजनीतिक निर्णय के बीच महीन भेद करने में नहीं कर पाते. उन्होंने कहा कि कोर्ट का आदेश एक पक्ष के लिए फायदे वाला होगा तो दूसरे लिए पक्षपात वाला. जिस क्षण आप फैसला सुनाते हीं उसी क्षण जज के दुश्मन भी बन जाते हैं.

राफेल पर फैसले को लेकर हुए विवाद पर भी रंजन गोगोई ने साफगोई से अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि बातें करना आसान है लेकिन जब आप मुख्य न्यायधीश की कुर्सी पर बैठते हैं तब मुश्किल होती है. उन्होंने कहा कि अगर मेरी नीयत सही है तो फिर कितनी आलोचना हो, इससे फर्क नहीं पड़ता.

उन्होंने कहा, ”राफेल केस बेहद आसान था. सवाल जहाजों की खरीद को लेकर था. क्या हम जहाज खरीद के लिए भी वही प्रक्रिया अपनाएंगे जो एक बिल्डिंग बनाने के लिए अपनाते हैं. मैं कहूंगा, नहीं. एयरक्राफ्ट की खरीद में पैरामीटर और सख्त होंगे.” फैसलों के बदले राज्यसभा सीट के आरोप पर गोगोई ने कहा, ”मुझे थोड़ा तो क्रेडिट दीजिए. जिसने अयोध्या, राफेल और सबरीमला जैसे फैसले वो मोलभाव नहीं करेगा? अगर यह मोलभाव होता तो बहुत बड़ा होता. सिर्फ एक राज्यसभा इसके लिए मोलभाव नहीं हो सकती.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button