छत्तीसगढ़बिग ब्रेकिंग

बिहार: जवानों को नुकसान पहुंचाने लगाया था 815 किलो का बम, काॅम्बिंग ऑपरेशन के दौरान किया डिफ्यूज

दिल्ली। भारतीय सेना जहां आंतकवादियों के नापाक मंसूबों को देश की सीमा पर ही मार गिरा रही है तो वहीं देश के भीतर सुरक्षाबल के जवानों ने नक्सलियों के द्वारा बिछाए गए बारूदी सुरंगो को नष्ट कर दिया है। जी हां हम बात कर रहें है बिहार राज्य के गया और औरंगाबाद जिले के बॉर्डर एरिया की जहां नक्सलियों ने सीआरपीए जवानों को भारी मात्रा में नुकसान पहुंचानेे के लिए 83 बारूदी सुरंग बिछाए थी। वही सूचना के अधार पर 159 व 47 बटालियन सीआरपीएफ और 205 बटालियन कोबरा के जवानों ने सभी आईईडी को बरामद कर नष्ट कर दिया है।

यह भी पढ़े : चेम्बर्स चुनाव के कार्यकर्ता आपस में भिड़े,व्यापारियों के बीच मार-पीट की नौबत।

इन रास्तों में बिछाए थे आईईडी
सीआरपीएफ डिप्टी कमांडेंट से मिली जानकारी के अनुसार ये आइईडी गया जिले के छकरबंधा वन क्षेत्र में ढकपहाड़ी, सागरपुर एवं खजौतिया जाने वाले रास्तों पर प्लांट किए गए थे। बताया जाता है कि सीआरपीएफ के जवानों का इन रास्तों से आवागमन रहता हैै जिसके चलते नक्सलियों ने यहां बारूदी सुरंग बिछाया था। मुखबिर की सूचना पर 159 एवं 47 बटालियन सीआरपीएफ व 205 बटालियन कोबरा के जवानों ने संयुक्त ऑपरेशन चलाया। पिछले दो दिनों से चल रहे कॉम्बिंग ऑपरेशन के दौरान आज शुक्रवार को 83 आइईडी बरामद किए गए हैं। बम निरोधक दस्ता ने सभी को डिफ्यूज कर दिया।

यह भी पढ़े : 5 राज्यों में होने वाले चुनाव से जुड़ी प्रमुख बातें

815 किलोग्राम विस्फोटक बारूद का इस्तेमाल
सीआरपीएफ डिप्टी कमांडेंट मोती लाल ने बताया कि सागरपुर से 1.5 किलोमीटर दक्षिण, ग्राम ढक पहाड़ी से 1.4 किलोमीटर उतर-पूर्व थाना छकरबंधा जिला गया और औरंगाबाद जिला के मदनपुर थाना के सीमावर्ती क्षेत्र में 150 मीटर में सीरीज में लगाए गए 83 बारूदी सुरंग का पता चला। नक्सलियों द्वारा 20 किलोग्राम के तीन, 10 किलोग्राम के 71 एवं पांच किलोग्राम के नौ आइईडी लगाए गए थे। इसमें 815 किलोग्राम विस्फोटक बारूद का इस्तेमाल किया गया था।

यह भी पढ़े : भावुक संदेश लिख कर क्रिकेटर यूसुफ पठान ने लिया इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास

जवानों को नुकसान पहुंचाने का था इरादा
बताया जाता कि इतनी मात्रा में विस्फोटक का इस्तेमाल सीआरपीएफ जवानों के खिलाफ होना था। वहीं अगर बरामद आईईडी विस्फोट होता तो जवानों को भारी नुकसान हो सकता था। बता दें नक्सलियों द्वारा जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए कच्ची सड़कों और रास्तों पर जमीन के अंदर विस्फोटकों का जखीरा प्लांट किया जाता है। ताकि वे अपने अनुसार विस्फोट की घटना को अंजाम दे सकें, लेकिन सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के नापाक मंसूबे पर पानी फेर दिया है।

यह भी पढ़े : ट्विंकल खन्ना ने इंस्टाग्राम पर लगाई अपने बेटे आरव को फटकार

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button