गुप्तचर विशेषनौकरी

Career Tips: बनना चाहते हैं PWD इंजीनियर? तो जान लीजिए 2021 के अनुसार योग्यता, चयन प्रक्रिया और वेतनमान

नई दिल्ली। लगभग सात लाख विभिन्न ट्रेड्स में इंजीनियरिंग ग्रेजुएट्स हर साल जॉब मार्केट में प्रवेश करते हैं। इन इंजीनियरिंग स्नातकों में बड़ी संख्या ऐसी होती है जो कि इंजीनियरिंग से जुड़ी सरकारी नौकरियों में जाना चाहते हैं और लोक निर्माण विभाग यानि पीडब्ल्यूडी में इंजीनियर बनने की ख्वाहिश तो लगभग सभी में होती है।

पीडब्ल्यूडी इंजीनियर की भर्ती जहां विभिन्न राज्यों में वहां की राज्य सरकारों के लोक सेवा आयोग या अधीनस्थ कर्मचारी चयन आयोग/बोर्ड द्वारा की जाती है तो वहीं केंद्र सरकार के अधीन केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) में भर्ती कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) द्वारा हर वर्ष की जाती है।

केंद्र सरकार के केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (सीपीडब्ल्यूडी) में इंजीनियर की सीधी भर्ती जूनियर इंजीनियर (ग्रुप बी, नॉन-गजेटेड) के तौर पर की जाती है। जूनियर इंजीनियर के तौर पर नियुक्ति प्राप्त उम्मीदवारों को शहरी विकास मंत्रालय के केंद्रीय लोक निर्माण विभाग कनिष्ठ अभियंता (सिविल एवं वैद्युत) नियम 2003 के अनुसार निर्धारित शर्तों एवं सेवा अवधि के अऩुसार प्रोन्नति दी जाती है। सीपीडब्ल्यूडी में जूनियर इंजीनियर के तौर पर नियुक्त कर्मचारियों को प्रोन्नत होने के बाद असिस्टेंट इंजीनियर, एग्जीक्यूटिव इंजीनियर और अन्य वरिष्ठ पदों पर काम करने का मौका दिया जाता है।

योग्यता:

सीपीडब्ल्यूडी इंजीनियर की सीधी भर्ती जूनियर इंजीनियर के तौर पर एसएससी द्वारा हर वर्ष आयोजित की जाने वाली जूनियर इंजीनियर (जेई) भर्ती परीक्षा के माध्यम से की जाती है। एसएससी जेई परीक्षा 2020 अधिसूचना के अनुसार परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए उम्मीदवारों को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या किसी अन्य उच्च शिक्षा संस्थान से सिविल या इलेक्ट्रिकल इंजीनिरिंग में स्नातक होना चाहिए। हालांकि, इन ट्रेड में तीन वर्षीय डिप्लोमा और सम्बन्धित कार्य का दो वर्षों का अनुभव रखने वाले उम्मीदवार भी आवेदन के योग्य होते हैं।

इसके अतिरिक्त उम्मीदवारों की आयु परीक्षा के वर्ष (2020) में 1 जनवरी को 32 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। हालांकि, आरक्षित वर्गों के उम्मीदवारों को सरकार के नियमानुसार अधिकतम आयु सीमा में छूट भी दी जाती है। जो कि ओबीसी के लिए 3 वर्ष, एससी एसटी के लिए 5 वर्ष, दिव्यांगों के लिए 10 वर्ष है। अधिक जानकारी के लिए एसएससी जेई 2020 अधिसूचना देखें।

चयन प्रक्रिया:

एसएससी के नोटिस के अनुसार सीपीडब्ल्यूडी में जेई पदों के उम्मीदावरों का चयन लिखित परीक्षा (पेपर 1 और फिर पेपर 2) एवं डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन के आधार पर किया जाता है। पेपर 1 ऑब्जेक्टिव टाइप होता है जिसकी अवधि 2 घंटे होती है और इसमें जनरल इंटेलीजेंस एवं रीजनिंग, जनरल अवेयरनेस, सम्बन्धित इंजीनियरिंग ट्रेड के प्रश्न होते हैं।

पेपर 1 में सफल उम्मीदवारों को पेपर 2 में शामिल होना होता है। पेपर 2 विस्तृत उत्तरीय लिखित परीक्षा होती है जिसमें सम्बन्धित ट्रेड के प्रश्न होते हैं और इसकी अवधि 2 घंटे होती है। पेपर 2 में सफल उम्मीदवारों को डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन के लिए आमंत्रित किया जाता है। फिर अंतिम चयन सूची आयोग द्वारा उम्मीदवारों के प्रिफेरेंस एवं रिक्तियों की संख्या के अनुसार जारी की जाती है। सीपीडब्ल्यूडी में जूनियर इंजीनियर के तौर पर नियुक्त उम्मीदवार प्रोन्नत होकर वरिष्ठ पदों पर कार्य करते हैं।

वेतनमान: सीपीडब्ल्यूडी में जेई के तौर पर नियुक्त कर्मचारियों को 7वें वेतन आयोग के पे-मैट्रिक्स लेवल 6 (35,400 – 1,12,400 रुपये) के अनुसार मासिक वेतन दिया जाता है। इसके अलावा केंद्र सरकार के कर्मचारियों को दिये जाने वाले भत्ते और अन्य लाभ भी दिये जाते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button