गुप्तचर विशेषछत्तीसगढ़बिग ब्रेकिंग

अब सरकार चलवाएगी शराब दुकानों के पास चखना सेंटर, दो-दो लाख में मिलेगा लाइसेंस

रायपुर। शराब पीने और चखना सेंटर चलाने वालों के लिए खुशखबरी है। पीने वाले चखना सेंटर में जल्दबाजी के बजाय आराम से बैठकर पी सकते हैं। कोई रोकेगा-टोकेगा नहीं और चखना सेंटर चलाने वाला भी निश्चिंत होकर सेंटर चला सकेगा। आबकारी अधिकारी का डर नहीं रहेगा।

दरअसल शराब दुकानों के पास चखना सेंटर अब सरकार चलवाएगी। इसके लिए दो-दो लाख रुपए में लाइसेंस जारी किए जाएंगे। अब तक चखना सेंटर(आहाता) चलाना अवैध था। इसके संचालन की अनुमति नहीं थी।

हालांकि आबकारी अधिकारियों की मिलीभगत से कई शराब दुकानों में अवैध रूप से चखना सेंटर चलाए जा रहे थे। संचालकों से कई आबकारी अधिकारी वसूली करते थे। इससे सरकार को किसी तरह का मुनाफा नहीं हो रहा था, बल्कि आबकारी अधिकारी लाल हो रहे थे। लेकिन वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए सभी शराब दुकानों में आबकारी नीति के तहत आहाता संचालन संबंधित निर्देश सभी कलेक्टरों को जारी कर दिए गए हैं।

Chakhna center
Chakhna center

दो-दो लाख में मिलेगा लाइसेंसशराब दुकान के पास चखना सेंटर का संचालन आबकारी नीति के तहत छत्तीसगढ़ स्टेट मार्केटिंग कार्पोरेशन लिमिटेड(सीजीएसएमसीएल) द्वारा तय नियम-कायदे से होगा। आहाता संचालन के लिए सीजीएसएमसीएल टेंडर के माध्यम एक एजेंसी नियुक्त करेगी। इसके बाद एजेंसी आहाता के लिए वेंडर नियुक्त करेगा। और इसके लिए दो-दो लाख रुपए लेकर लाइसेंस जारी किया जाएगा। इसके अलावा केंद्र व राज्य सरकार द्वारा आवश्यक सभी तरह के अन्य लाइसेंस लेना होगा, जिसमें खाने-पीने के लिए आवश्यक दस्तावेज भी शामिल हैं।

क्या-क्या होगी व्यवस्था
चखना सेंटर कम से कम 150 वर्गफीट जमीन पर होगा। ध्वनि विस्तारक यंत्र का प्रयोग नहीं होगा। साफ पानी, कवर्ड एरिया रखना होगा। स्वच्छ खान-पान के अलावा एसी, कूलर की व्यवस्था करनी होगी। चखना सेंटर में काम करने वालों की उम्र 21 साल से कम नहीं होगी। इसके अलावा अन्य निर्देश जारी किए गए हैं।

जुगाड़ में भिड़े कई
शराब दुकान के पास चलने वाले चखना सेंटर में रोज लाखों रुपए की कमाई होती है। यही वजह है कि चखना सेंटर चलाने के लिए कई लोग अभी से जुगाड़ में लग गए हैं। उल्लेखनीय है कि शराब लेने वाले अधिकांश लोग वहीं बैठकर शराब पीते हैं। इस दौरान खाने-पीने की अन्य चीजें भी लेते हैं। प्रदेश में करीब 700 अैर रायपुर जिले में 74 देशी और विदेशी मदिरा दुकानें हैं। आहाता पॉलिसी आने के बाद कई लोग जुगाड़ में लग गए हैं। आहाता चलाने के लिए अफसरों से लेकर नेताओं तक से जुगाड़ कर रहे हैंं।

एजेंसी तय करेगी
आबकारी अधिकारियों का कहना है कि आहाता संचालन के लिए पिछले साल भी निर्देश थे, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते ऐसा नहीं हो पाया है। आहाता संचालन के लिए एजेंसी तय होगी। इसके बाद एजेंसी वेंडर तय करेगा। और वेंडर आहाता का संचालन करेगा। अफसरों का मानना है कि अप्रैल से यह व्यवस्था लागू हो जाएगी।

बार वालों को झटका
चखना सेंटर खुलने के बाद बार वालों को नुकसान होगा। वर्तमान में पीने के लिए जगह नहीं होने के कारण अधिकांश लोग बार में जाकर शराब पीते हैं। अब शराब दुकानों में आहाता वैध रूप से चलेगा, तो बार में पीने वालों की संख्या कम हो जाएगी। इसका नुकसान बार संचालकों को उठाना पड़ेगा।

विभाग की ओर से शराब दुकानों में आहाता संचालित करने के निर्देश जारी हुए हैं। लेकिन इसके लिए अभी एजेंसी तय नहीं हुई है। कब चालू करना है, इसका भी उल्लेख नहीं है।
– अरविंद पटले, उपायुक्त, आबकारी, रायपुर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button