गुप्तचर विशेषलाइफस्टाइल

मूक बधिर जोड़े ने कायम की प्यार की प्यार की नई मिसाल, इनकी लवस्टोरी पढ़ हो जायेंगे भावुक

झारखंड| कहते हैं जोड़ियां ऊपर वाला बनता है, जब जिसके नसीब में जो लिखा है वही होता है. ये कहावत आज झारखंड के पश्चिम सिंहभूम जिले के लोटापहाड़ में रहने वाले महाबीर शुक्ला उर्फ पप्पू और ओडिशा संबलपुर की रहने वाली लक्ष्मी त्रिपाठी की जिंदगी में फिट बैठती है.

महाबीर शुक्ला और लक्ष्मी त्रिपाठी बचपन से ही बोल और सुन नहीं सकते हैं. दिव्यांग की जिंदगी जी रहे महाबीर और लक्ष्मी ने उम्मीद छोड़ दी थी की कोई उनसे शादी करेगा. लेकिन सोशल मीडिया (Social Media) ने दोनों को मिला दिया.

दरअसल, महाबीर बचपन से ही सुन और बोल नहीं सकते हैं. उसकी इस दिव्यांगता के कारण हर जगह उसका शादी का रिश्ता टूट जाता था. परिवार वाले भी महाबीर की शादी को लेकर चिंतित थे. Deaf-and-dumb स्कूल में पढ़े महाबीर मोबाइल में सोशल मीडिया के जरिए अपने डिफ एंड डम्ब साथियों के साथ अकसर चैट करते रहते थे.

इसी दौरान सोशल मीडिया के जरिए महाबीर की मुलाकात ओडिशा संबलपुर की रहने वाली लक्ष्मी त्रिपाठी से हुई. दोनों में चैट, मैसेजिंग और वीडियो चैट शुरू हुई. इस दौरान पता चला की लक्ष्मी त्रिपाठी भी बचपन से बोल और सुन नहीं सकती है. इसके बाद दोनों एक दूसरे से वीडियो चैट में इशारों के जरिए बातें करने लगे. दोस्ती से आगे निकलते हुए दोनों एक दूसरे का सम्मान करते हुए एक दूसरे को पसंद करने लगे. पसंद प्यार में बढ़ने लगी.

दोनों ने ये बात अपने-अपने परिजनों को बताई. जिसके बाद दोनों के परिजनों ने एक दूसरे से शादी को लेकर अपना-अपना विचार रखा. विचार फिर प्रस्ताव में बदला. दोनों परिवार वाले इस रिश्ते के लिए राजी हो गए. यह सब कुछ इसी साल 2021 से शुरू हुआ. दोनों की फरवरी महीने में मंगनी हुई और मार्च 21 को दोनों शादी के बंधन में बंधकर एक दूसरे के हो गए.

महाबीर और लक्ष्मी भले ही बोल और सुन नहीं सकते. लेकिन दोनों एक दूसरे की भावनाओं को तुरंत पढ़ लेते हैं और यही इन दोनों के रिश्तों में एक मजबूत गांठ है. दोनों एक-दूसरे का सम्मान करते हैं, एक-दूसरे का ख्याल रखते हैं.

दोनों के बीच आपसी तालमेल और समझ देख परिवार वाले भी खुश हैं. परिवार वाले कहते हैं की इन दोनों को सोशल मीडिया ने मिलाया है. वरना ये तो रिश्ता तलाश करते-करते थक चुके थे. जिला मुख्यालय से शहरी क्षेत्र से 50 किलोमीटर दूर जंगल पहाड़ के बीच बसे लोटापहाड़ से संपर्क कर कोई शादी रिश्ता ओडिशा से आएगा ऐसा उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था.

सभी दो मूक बधिर के शादी के बंधन में बंध जाने से खुश हैं. इस जोड़े का कोई मजाक ना उड़ाए इसको लेकर परिवार थोड़ा चिंतित जरूर है. शादी के बंधन में बंधे इस अनोखे जोड़े की चर्चा अब हर तरफ होने लगी है और इनके प्यार की मिसाल को लोग सलाम करने लगे हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button