लाइफस्टाइलहेल्थ

HOLI2021: होली के रंग छुड़ाते समय न करें यह गलतियां,वरना त्वचा को होगा नुकसान

द गुप्तचर डेस्क|  होली खेलने में यकीनन काफी मजा आता हो, लेकिन होली के बाद जब स्किन के रंग छुड़ाने की बारी आती है तो यह किसी सिरदर्द से कम नहीं लगता। होली के रंग छुड़ाने में काफी सारा समय और पानी यूं ही नष्ट हो जाता है। इतना ही नहीं, कई बार तो रंग छुड़ाते समय लोग ऐसी कई छोटी−छोटी गलतियां कर बैठते हैं, जिसका नुकसान आपकी स्किन को होता है।

होली खेलने के बाद अगर रंग छुड़ाते समय सावधानी ना बरती जाएं तो स्किन की कई समस्याओं जैसे रैशेज, खुजली, एलर्जी, जलन व दर्द आदि का सामना करना पड़ सकता है। तो चलिए जानते हैं ऐसी ही कुछ मिसटेक्स के बारे में−

गर्म पानी का इस्तेमाल

अक्सर लोग सोचते हैं कि गर्म पानी से कलर्स जल्दी व आराम से निकलेंगे। लेकिन आपको यह गलती नहीं करनी चाहिए। सबसे पहले तो अगर आपकी बॉडी गीली नहीं है तो सीधे पानी के इस्तेमाल से बचें। पहले अपनी स्किन को किसी सूखे कपड़े से झाड़ लें।

इससे काफी सारा कलर यूं ही निकल जाएगा। इसके बाद आप गर्म पानी की जगह ठंडे पानी से स्किन को वॉश करें। गर्म पानी से कलर निकालना काफी मुश्किल होता है।

जोर−जोर से रगड़ना

कुछ लोग रंग छुड़ाने के लिए स्किन को साबुन व बॉडी वॉश की मदद से जोर−जोर से रगड़ने लगते हैं। इससे रंग तो नहीं निकलता, लेकिन आपकी स्किन को काफी नुकसान होता है। कई बार स्किन पर रेडनेस, ईचिंग व जलन भी होने लगती है।

इसलिए स्किन को जोर से रगड़ने की जगह आप होममेड उबटन व पैक्स आदि लगाएं। यह कलर्स को नेचुरल तरीके से निकालते भी हैं, साथ ही आपकी स्किन को नरिश करने का काम भी करते हैं।

प्रोटेक्शन पर फोकस नहीं

कहते हैं कि प्रिवेंशन इज़ बेटर देन क्योर। लेकिन बहुत से लोग इस स्टेप पर ध्यान नहीं देते, जिससे रंग स्किन में लग जाता है और बाद में उसे क्लीन करना काफी मुश्किल होता है।

अगर आप चाहते हैं कि होली खेलने के बाद आपको रंग हटाने में किसी तरह की दिक्कत ना हो, तो होली खेलने से पहले अपने बालों, स्किन, नाखून आदि को अच्छी तरह प्रोटेक्ट करें। इसके लिए आप मॉइश्चराइजर, नारियल तेल, सरसों का तेल व बेबी ऑयल का सहारा ले सकते हैं।

स्किन केयर नहीं

कई बार लोग समझते हैं कि अगर स्किन से रंग निकल गया तो वह काफी है। लेकिन होली में रंग निकालने के बाद स्किन को अतिरिक्त केयर की जरूरत होती है। इसलिए स्किन को रैशेस से बचाने के लिए एंटी−सेप्टिक क्रीम व मॉइश्चराइजिंग क्रीम आदि का सहारा लें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button