गुप्तचर विशेषछत्तीसगढ़बिग ब्रेकिंग

भारी लापरवाही: एक तरफ प्रदेश में कोरोना विस्फोट, दूसरी तरफ जांच केंद्रों से डॉक्टर और नर्स नदारद

इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि, पूरे देश की तरह छत्तीसगढ़ में भी Corona की दूसरी लहर जमकर तांडव कर रही है। प्रदेश में दिन-ब-दिन बढ़ते कोरोना संक्रमितो की संख्या इस बात की ओर इशारा करती है, कि अगर समय रहते नहीं संभाला गया तो हालात फिर से पिछले साल की तरह हो जाएंगे । ऐसे में लगातार बढ़ते मामलों पर लगाम तभी लगाई जा सकती है। जब जांच के दायरे को बढ़ाया जाए और ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन दी जाए।

लेकिन राजधानी रायपुर के कुछ कोरोना जांच केंद्रों में जमकर लापरवाही देखने को मिल रही है। जांच केंद्र के खुलने का समय सुबह 8:00 बजे का है लेकिन 10:30 बजे तक लोग कतारों में खड़े हैं और कोई भी उनकी सुध लेने वाला नहीं है। यह लापरवाही का मामला शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, चंगोराभाठा से सामने आया है। जहां corona test करवाने के लिए लोगों की लंबा इंतजार करना पड़ रहा है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by The Guptchar (@theguptchar)

लगातार बढ़ते मामले

छत्तीगढ़ में गुरुवार को रात आठ बजे तक कोरोना के 4617 नए संक्रमित मिले हैं। जबकि 34 लोगोंं की मौत हो गई है। रायपुर में 1327 और दुर्ग में 997 नए संक्रमित मिले हैं। 437 नए संक्रमितों के साथ राजनांदगांव तीसरे नंबर पर रहा।

इस बीच प्रदेश में कोरोना से ज्यादा संक्रमित जिलों में लॉकडाउन (lockdown in cg 2021) लगाया जा सकता है। लॉकडाउन को लेकर फैसला संबंधित जिलों के कलेक्टर ले सकेंगे।

मुख्यमंत्री ने इस संबंध के निर्देश मुख्य सचिव के माध्यम से कलेक्टरों को दे दिए गए हैं। इसके मुताबिक कलेक्टर अपने जिलों की स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन को लेकर फैसला ले सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर कुछ कांग्रेस नेताओं ने भी लॉकडाउन की मांग की थी। संक्रमण की दर को लेकर भाजपा नेता भी लगातार सरकार पर निशाना साध रहे थे।

राज्य में अब 28 हजार 987 सक्रिय मामले

गुरुवार को रायपुर में सर्वाधिक 9 मौतें हुई है, जबकि 7 मौतें दुर्ग जिले में हुई है। प्रदेश में गुरुवार को 40 हजार 857 सैंपल टेस्ट हुए हैं। प्रदेश में अब 28987 एक्टिव पॉजिटिव केस हैं।

इस बीच स्वास्थ्यमंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया है कि छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के नए वैरिएंट की पहचान की गई है। हालांकि यह खतरनाक नहीं है। यह ब्रिटेन व दक्षिण अफ्रीका में पाया जाने वाला वैरिएंट नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button