आस्थाछत्तीसगढ़बिग ब्रेकिंगभारत

छत्तीसगढ़ का दावा : रायगढ़ के किंधा पहाड़ को माना जाता है बजरंगबली का जन्म स्थान, बाली और राक्षस के युद्ध वाली गुफा आज भी मौजूद

रायगढ़. हनुमानजी की जन्मस्थली को लेकर आंध्रप्रदेश और कर्नाटक के बीच विवाद के बाद छत्तीसगढ़ ने भी अपना दावा किया है। छत्तीसगढ़ का दावा है कि रायगढ़ का किंधा पहाड़ असल में हनुमानजी का जन्मस्थल है। रामायण काल के समय के किष्किंधा का अपभ्रंश अब किंधा हो गया है। यहां पर बाली व मायावी राक्षस के बीच करीब माह भर तक चले भयानक युद्ध की गुफा भी है। यह गुफा किंधा गांव से करीब 5 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। ग्रामीणों का दावा है कि लंबे समय तक गुफा के अंदर से लाल पानी आता रहा, लेकिन अब यह सूख चुका है।
राम वन गमन पथ भी मौजूद
वनवास काल में भगवान राम का छत्तीसगढ़ में आगमन पूर्व में प्रमाणित हो चुका है। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा जहां-जहां राम का आगमन हुआ वहां- वहां राम वन गमन पथ निर्धारित किया गया है, इसमें किंधा गांव भी है।

Read more : छत्तीसगढ़: प्रदेश में फ़िलहाल 18 + को नहीं मिलेगी वैक्सीन, हाई कोर्ट के इस आदेश के बाद टीकाकरण स्थगित

पहाडिय़ों से घिरा गांव है हनुमानजी का जन्मस्थल
रायगढ़ जिला मुख्यालय से करीब 140 किलोमीटर दूर बसे इस गांव के दोनों ओर पहाड़ हैं। गांव के बुजुर्ग घासीराम राठिया बताते हैं, गांव से करीब 50 मीटर दूरी पर स्थित पहाड़ किष्किंधा है। यहां सुग्रीव व राम की मित्रता हुई थी। इसी किष्किंधा में हनुमानजी का जन्म हुआ। सीता हरण के समय जो जेवर सीताजी ने नीचे फेंके थे, वह भी वहीं मिले थे। दावा है कि राम, सुग्रीव और हनुमान का मिलन किंधा गांव में ही हुआ था। यहीं से रावण की लंका में चढ़ाई करने की कार्य योजना भी तैयार हुई।
वनवास काल के दौरान भगवान राम किंधा गांव आए थे। गांव में इसके प्रमाण मौजूद हैं। यहां से पास में वह गुफा भी है जहां बाली राक्षस को मारने गए थे। इस पहाड़ी की दीवारों पर भीमवैटका की तरह प्राचीन भित्तिचित्र भी हैं।
– रामनाथ बैगा, सरपंच, किंधा ग्राम पंचायत

Read more : कोरोना संक्रमित आसाराम की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल के ICU में भर्ती

इस संबंध में वहां बिखरे प्रमाणों को आधार बनाकर हम यह दावा कर सकते हैं। मुख्यमंत्री से बात करके छत्तीसगढ़ हनुमानजी के जन्मस्थल को लेकर अपना दावा पेश कर सकता है। इस स्थल को यहां इसी के अनुरूप विकसित करने के लिए भी बात करेंगे।
– विकास तिवारी, प्रभारी, छत्तीसगढ़ राम वनगमन पथ कार्यक्रम, रायपुर

Read more : बस्तर का महुआ पी कर झूमेंगे अंग्रेज, यूरोप में बनेंगी शराब और एनर्जी ड्रिंक 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button